Over 10 years we helping companies reach their financial and branding goals. Onum is a values-driven SEO agency dedicated.

LATEST NEWS
CONTACTS

कुंभ दान

गुरु दक्षिणा

गुरु दक्षिणा भारतीयों से संबंधित एक बहुत पुरानी और प्राचीन अवधारणा है। यह अद्वितीय है क्योंकि किसी अन्य देश में यह सुंदर परंपरा नहीं है। शिक्षा की पूरी प्रक्रिया समाप्त होने के बाद अपने ‘गुरु’ या ‘शिक्षक’ को चुकाने की परंपरा है। यह शिक्षक या गुरु के प्रति छात्र द्वारा सम्मान और स्वीकृति के लिए किया जाता है। यह गुरु को धन्यवाद देने का एक पारंपरिक रिवाज है। यह गुरु और छात्र के बीच एक तरह का प्यार और सम्मान का आदान-प्रदान है।

हिंदू धर्म के अनुसार, एक गुरु का काम सिर्फ अपने छात्रों को ज्ञान प्रदान करने से कहीं अधिक है। विषयों को पढ़ाने के अलावा, वह उसे यह भी सिखाता है कि समाज में मूल्यों या नैतिकता के साथ खुशी से कैसे रहना है और फिर समाज में अपनी शिक्षाओं को फैलाना है। गुरु को एकमात्र मार्गदर्शक माना जाता है जो अपनी शिक्षाओं को प्रदान करने के लिए आध्यात्मिक रूप से विकसित हुए थे। विभिन्न विषयों में ज्ञान प्रदान करने के अलावा, गुरु की भूमिका छात्रों को अनुशासन और शिष्टाचार में प्रशिक्षित करना था। उन्होंने छात्रों को अनुशासन और नैतिक सिद्धांतों से भरा जीवन जीने का तरीका सिखाया। एक गुरु को हमेशा अपने छात्रों को एक मार्गदर्शक शक्ति के रूप में लिया जाता था।

प्राचीन काल में गुरु दक्षिणा

इस अवधारणा को अच्छी तरह समझने के लिए हमें एक शिक्षक या गुरु के मूल्य को समझना होगा। सरल शब्दों में गुरु माता-पिता के बाद गुरु होता है। वह वह है जो अपने छात्रों को विभिन्न विषयों का ज्ञान और समझ प्रदान करता है।

विभिन्न विषयों में ज्ञान प्रदान करने के अलावा, भूमिका छात्रों को अनुशासन और शिष्टाचार में प्रशिक्षित करने की थी। उन्होंने छात्रों को अनुशासन और नैतिक सिद्धांतों से भरा जीवन जीने का तरीका सिखाया। 

English हिन्दी